Therapies

वायु सनान

गर्मियों में यथासंभव अपने घर में कम से कम कपड़े पहने तथा त्वचा के ऊपर हवा को लगने दें | यदि कभी हवा नहीं चल रही हो तो आवश्यक्तानुसार पंखे को भी चलने दें | प्राय : सभी ने इस बात पर ध्यान दिया होगा की छोटे बच्चे को कपड़े पहनाते समय वे रोने लगते है | सभ्यता के आरंभ में ( आज भी अण्डमान और निकोबार समूह में ) आदिवासी लोग बिना कपड़े पहने ही रहते है | इससे ये प्रमाणित होता है की व्यक्ति की आंतरिक इच्छा तो कपड़े न पहनने की है | बहुत छोटे बच्चे को अपने घर में कम से कम कपडे या बिना कपड़ों को रहने दें | इससे वायु स्नान अपने अपने आप होता रहेगा | सूती कपड़े पहन कर सुबह पार्क में भी सैर के लिए जा सकते है | बहुत अधिक सर्दी हो या गर्मी में लू चल रही हो तो यह सनान करना उचित नहीं है | तातपर्य यह है की बाहर की वायु सहनीय हो तो पूरा लाभ होगा | अहिंसा के नियमो का उलंगन करने से रोगी के शरीर में दुर्बलता बढ़ने का भय बना रहता है |

सूर्य की तरफ देखना

आँखों की सेहत बढ़ाने के लिए रोज़ सुबह-सुबह सूर्य उदय होने के एक घण्टे के अंदर अंदर ४-५ मिनट के लिए सूर्य की तरफ देखना है | अगर सूर्य लाल या पीला रंग का हो. सूर्य को देखने से आँखों पर कोई दबाव न पड़ता हो तो नंगी आँखों से सूर्य को देख सकते है | यदि रौशनी अधिक तेज होगी हो तो कोई भी हरा पत्ता जैसे केले , अशोक या पीपल के पत्ते जिससे दोनों आंखे ढक जाएँ , आंखे खोल कर पत्ते में से सूर्य की तरफ ४-५ मिंट तक देखें | पीले या सूखे पत्तों का प्रयोग न करें |

सूर्य स्नान

आँखों की अच्छी सेहत के लिए विटामिन डी की आवश्यकता होती है , जो सूर्य की रौशनी से मिलता है | सूर्य स्नान से शरीर को विटामिन डी के अलावा कैल्सियम (CALCIUM) और फास्फोरस (FASPHORUS) भी मिलता है | शरीर को लाभ सूर्य की रौशनी से मिलता है गर्मी से नहीं | सवेरे ९ बजे से पहले से पहले या शाम को ५ बजे के बाद की धूप किसी प्राइवेट जगह पर नंगे शरीर को लगने दें | सूर्य स्नान की सम्पूर्ण विधि इस विषय पर पुस्तक SUNLIGHT FOR HEALTH से जानिए |

सूर्य नमस्कार

यह आसन सूर्य स्नान व् शारीरिक व्यायाम दोनों का संगम (तवो इन ओने ) है | इस आसन के करने से पाचन तंत्र की शक्ति बढ़ती है | लिवर, अमाशय (STOMACH), स्प्लीन. इंटेस्टिने, की मालिश होती है | दिगेंस्टीवे सिस्टम टोन उप (टोन उप ) होता है | आँखों की सेहत बढ़ती है |

पामिंग (PALMING)

आँखों को बंद करके दोनों हथेलियों से ढक दीजिये | जैसे की निचे चित्र में दिखाया गया है | आँखों पर किसी प्रकार का दबाव नहीं आना चाइये | बंद आँखों से काले अंधरे को देखना चाइये | पलमिंग से तनाव (स्ट्रेस & स्ट्रेन ) में बहुत लाभ मिलता है |